#44 Shayari

कुछ उन पलों की याद रह गयी ज़िन्दगी, जब धड़कने एक सी थी, और गहराईयों में सिमटे हम.

Advertisements