#65 Shayari

भूला कहां तुझे, आज भी कलम तुझे ही लिखती है, बस दर्द मिटता नहीं,पर मैं थकता नहीं.

Advertisements