#Shayari 56

हर बात पे उसकी, कुछ कहने को था, और आज भी है, खामोशियां मेरी.

Advertisements