#47 Shayari

पैसा ज़रुरत है, ज़रूरतों को पूरा करने की, खुशियों को पाने की कीमत की सीमा कहां.

Advertisements