#82 Shayari

वक़्त ने अलफ़ाज़ तो ना बदलने दिए, पर तेरी मोहब्बत ने नज़रिया ज़रूर बदल दिया.

Advertisements

#81 Shayari

जूनून-ए-इश्क की एक नयी कहानी सुनके आये हैं, मोहब्बत के पन्नो पे एक और नाम लिखवाने का मौका ढूंड आयें हैं. तालीम-ओ-मोहब्बत की सभी हदें पीछे छोड़ आयें हैं, इबादत करके, अपना सर उसके सजदे में झुकाके आये हैं.

#80 Shayari

अपनी कुछ गलतियों को माफ़ करने की ठानी है मैंने, मौहलत वक़्त से कुछ सांसों की और मांगी है मैंने.

#78 Shayari

हमने आज बहुत देर तक बात की, बस वो नहीं कहा, जो कहने की बात थी. कल हम फिर बात करेंगे, हम फिर कल कोई नयी बात कहेंगे.

#77 shayari

मेरी ज़िन्दगी में लोगों का ये हसीं कारवां, इन सांसो तक ही तो सीमित रहना है, आज़मा लो कुछ पलों के लिए तुम भी इस दिल को, सच्ची मोहब्बत यहां खुदा की रहमत से ही मिलना है.