#52 Shayari

बेइन्तेहां ही हो, गर खता ऐसी हो, मोहब्बत है ही इतनी खुबसूरत.

Advertisements