#50 Shayari

हम बेशक एक ही छत के नीचे क्यों न रहते हों, परंतु कई सारी दीवारों को लांघने के बाद, एक बार मिल पाते हैं.

Advertisements