#32 Shayari

वो शब्द ही कहां, जिन्हें मैं शब्दों में पिरो सकूं, जो महसूस वो शब्द करा गए...

Advertisements