#67 Shayari

कहां है ईद? हिज्र ने ज़िन्दगी ही रोज़ा कर दी. Hijr - Separation from beloved

Advertisements