#35 Shayari

गर कलम नुकीली है, तो कटाक्ष तो कसेगी ही, बयान मोहब्बत भी करेगी, इसलिए थम-थम के चलेगी.

#31 Shayari

वो तो दिलों में दूरियां थी, जो फासले मिट ना सके, वरना ये इश्क, उनका अलविदा मुक्कमल ना होने देता.

#28 Shayari

खुद से नफरत महसूस होती है, तुझसे मोहब्बत ख़त्म क्यों नहीं होती है.

#24 Shayari

मुझसे बिछड़ने की वजह कहीं वो खुद को न मान बैठे, जीना न छोड़ दे, सांसों के चलते-चलते.

#23 Shayari

अक्सर भूल जाता हूं तुझको भी ऐ खुदा, तेरे ही बंदे की हिफाज़त के लिए, हर बंदिश से आज़ाद हूं.

#16 Shayari

"मैंने दोस्त से कह दिया आती है हर पल उसकी याद, और फिर हर पल ये सोचता रहा, वो ऐसा किसे कहती होगी"