#37 Shayari

बहुत कुछ हो रहा था, जब उदास बैठा था, फिर सोचा खेल ही लूं, अपने दिल से ही सही.

Advertisements