कुछ ऐसा है हाल

है ये कैसी हार मोहब्बत, खुद को हार बैठा, फिर भी ज़हन में जीत महसूस होती है. है ये कैसी नाकामी प्यार, बिछड़के भी उसकी कमी नहीं लगती है, यादों में वो आज भी नयी है. है ये कैसी तिश्नगी इश्क, उम्र यादों में ढलती जा रही है, धड़कने यूं ही बढती जा रही हैं. …

Advertisements

इश्क

है रब की नेमत आज भी मुझपे, कुछ बीते लम्हों की मुस्कान आज भी है, निगाहें ढूंड रही हैं वो सारे रिश्ते, जिनसे महक तेरी आती है. कमियां तो हैं; तू पूरी करदे, वो दो रिश्ते मुझे एक आखरी दफा देदे, दिल टूट जाए वो मोहब्बत का नाटक करदे, नमूना बनादे, बेवफाई करके. तुझसे गिले, …

#27 Shayari

वक़्त की पाबंदियां कहां, दो-चार बातें और कह जाओ, लफ़्ज़ों में तुम बयां करना, तहज़ीब हम रखेंगे, तुम्हें बताने को कहानियां मिल जायेंगी, हम उसे गुफ्तगू कह देंगे.

क्या था?

क्या था, चुभा तो सही, जुदा तो था, टूटा भी वही, अपना ही था, कोई गैर नहीं, धोका ही था, या था प्यार कहीं, वो अश्कों से बहा, मायने लफ़्ज़ों के नहीं, थम गयी वो घड़ी, मुस्कुराहट रुकी ही नहीं, कलम शिकवे लिखती है, स्याही लाल बिखरती नहीं, उब गए अब तो, वो नाम याद …

When a father misses his daughter

दीवारें अब भी मुस्कुरा रही हैं, समा गया है खिलखिलाना उसका, वीरानियां तो दिल के कोने-कोने में हैं , गुरैया की तरह, उसका चेहचहाना भी कम ही सुनाई देता है.

कुछ इस तरह मेरी पलकें…

कुछ इस तरह मेरी पलकें उनसे मिल आतीं, शब्दों से नहीं, अश्कों से वो नज़्म कह जाती, मिल जाता कुछ खोया सा, फिर जुड़ जाता कुछ टूटा सा, यादों में ढलती कई और शामें, खाली दिल थोडा भर जाता, मूह फेर लेते तनहाइयों से एक और बार, फ़ैल जाती अंगड़ाईयों सी चेहरे पे मुस्कान, कुछ …

ये कैसी मोहब्बत…

सब कुछ भूल भी जाऊं तो वो रात याद आती है, मेरे कानों में गूंजती तेरी हर बात याद आती है, ये नज़रें भी जा टकराई तो किससे, होश गवां बैठा वो शरमाई कुछ ऐसे... मेरे दिल की ना जाने किस गहराई में तू बसती है, जब तक थी तू... अब जिंदगी खाली सी लगती …

बस यूं ही…

उससे ही दिल को मिलना था, करीब आकर फिर बिछड़ना था, ये गम नहीं खुशी का मौका था, दीदार से उनके ये दिल कुछ पलों के लिए धड़का था. जो उसके लिए मैं कर सका, वो कभी किसी और के लिए ना हुआ मुझसे, ना समझा वो तब था, ना समझा अब तक मेरा ये …