#48 Shayari

कई दफा उस शायर के दिल-ए-मिज़ाज पढके मुस्कुराये हैं, उसी मंज़र में इस दिल के मिज़ाज-ए-खुद भी लड़खड़ाए हैं.

Advertisements