कुछ अजीब है

एक अजीब सा सन्नाटा है. जल्दी-जल्दी में वो अपनी हर बात कह देती है, मगर, एक अजीब सी ख़ामोशी है. कानों में आज भी उसकी हंसी गूंजती है, मगर, एक अजीब सी उदासी है. सपनो को हासिल करने का जज़्बा है, मगर, एक अजीब सी थकान है. यूं तो हर महफ़िल की वो जान है, …

Advertisements

Sensitive OR Insensitive

ना जाने इनके कितने पैने औज़ार हैं, जो हमारे बत्तीस सीधे तन के खड़े हैं, यहां एक अपशब्द से देखो, बत्तीस सालों के रिश्ते कैसे बिखरे पड़े हैं. हर जगह दांतों की सेंसिटिविटी की बात हो रही है, यहां इंसानियत ही नज़रंदाज़ हो रखी है. इंसानों की इनसेंसिटिविटी को कोई मर्ज़ मानता ही नहीं है, …

#88 Shayari

कल अगर तुम मुझसे प्यार करते थे, और आज अगर नहीं करते, तो ये मुझपे छोड़ दो, कि मुझे याद किसे रखना है. Now I'll roll the ball. If yesterday was love and today it isn't, then you'll never find me again.  Why? Why because you've moved on and I still live there where you …