#16 Shayari

"मैंने दोस्त से कह दिया आती है हर पल उसकी याद, और फिर हर पल ये सोचता रहा, वो ऐसा किसे कहती होगी"

Advertisements

#15 Shayari

"आज भी हर रात उनके तस्सवूर में बीत रही है, उन्हें क्या पता, कितनी धड़कने मेरी मुझ ही में सो चुकी हैं."

#14 Shayari

"मुरझा ही जाते पन्नों के बीच, कुछ इस तरह जकड़े हुए से थे, अपनों से दूर जो थे, वो कांटे ही सही"