#8 Shayari

"वो न जाने किस साज़ से बनी थी, उस तार से मिलने वाले सुर, अब बेसुरे से लगते हैं"

Advertisements