सब कुछ है तू…

जब नाम लिखना ही तेरा है, तो कलम उठाना ही क्यों? जब ज़हन में सिर्फ तू ही है मेरे, तो दिल से कुछ पूछना ही क्यों? जब तेरे सिवा कोई चेहरा दिखता ही नहीं, तो नज़र फेर के किसी और को धुंडू भी क्यों? जब ज़िन्दगी में पाना ही सिर्फ तुझे है, तो तुझे खोकर [...]